चाची के साथ बस का सफ़र


bus ke safar mai chachi ki chudai सभी लंड धारियों को मेरा लंडवत नमस्कार और चूत की मल्लिकाओं की चूत में उंगली करते हुए नमस्कार। नॉनवेज स्टोरी के माध्यम से आप सभी को अपनी स्टोरी सुना रहा हूँ। मुझे यकीन है की मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढकर सभी लड़को के लंड खड़े हो जाएगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरुर छोड़ देगी। मेरा नाम दानिश है और मे 19 साल का हू. मे कराची से थोड़ा दूर एक गाओं का रहना वाला हू लेकिन कॉलेज के चक्कर मे कराची अपने चाचा चाची के पास रहता हूँ. मेरी चाची का नाम एरुम है.

चाचा और चाची जी दोनो कराची मे रहते हैं जहाँ मेरे चाचा जॉब करते हैं. और क्यूंकी वो अपनी जॉब के चक्कर मे शहर से बाहर गये हुए थे और मेरी विंटर ब्रेक थी मेरी चाची और मे गाओं आए हुए थे. चाची की उमर 31 साल थी और उनका चेहरा बोहुत गोरा है.

चाची का फिगर बोहुत अछा है: लंबी टांगे, टाइट बन्स और बड़े मममे. और वो हमेशा टाइट कपड़े पहनती थी जिस मे उनका फिगर पूरा अच्छी तरह नज़र आता था.

जब मेरी विंटर ब्रेक ख़तम हुई तो मेने वापिस कराची जाने का इरादा किया, क्यूके चाचा ने अगले हफ्ते वापिस आना था घर मे मैं और चाची घर अकेले होते. हमें गाओं से मेरे कज़िन ने रात के टाइम कराची की बस मे बिठा ताकि हम वापिस जा सकें.

बस मे मेने और चाची ने सीट साथ साथ ली क्यूकी वो मुझे अब भी बच्चा समझती थी और बस मे हमेशा मेरे साथ बैठती थी ताकि मे अकेला डर ना जौन.

बस मे बैठते साथ ही मुझे महसूस हुआ की मेने गाओं से निकालने से पहले बहुत पानी पिया था और मुझे थोड़ा थोड़ा पेशाब आ रा था.

मगर बस का सफ़र सिर्फ़ 3 घंटे का था तो मेने सोचा अब कराची जा के ही पेशाब करूँगा. बस चल पड़ी मगर आहिस्ता आहिस्ता मुझे फील हुआ केइ मेरी पेशाब की फीलिंग ज़्यादा हो रही हे और अब मुझसे सही तरह बैठा नही जा रा. मे अपनी टांगे बार बार हिला रा था और अपना लंड भी पकड़ रा था.

चाची ने मुझसे पूछा के मेने घर से निकलने से पहले क्यू नही सूसू किया और मेने कहा कि मुझे तब नई आ रही थी.

फिर चाची बोली के अभी तो बस चले सिर्फ़ 1 घंटा हुआ है, और 2 घंटे का सफ़र बाक़ी है. ये सुन के मे और घबरा गया के मे अब इतनी देर पेशाब केसे रोकोंगा.

चाची ने बस कंडक्टर को बुलाया और पूछा “क्या इस्स बस ने कराची से पहले कही रुकना है? इस्स बच्चे को टाय्लेट जाना है” मेरी तरफ इशारा कर के. कंडक्टर हास पड़ा और कहने लगा ” अब बड़े हो गये हो बेटा रोकना सीख लो” और चला गया.

मे और शर्मा गया क्यूकी अब इर्द गिर्द सब को पता था के मुझे अर्जेंट बातरूम जाना है और मे चाची की तरफ भीगी आँखों से देखने लगा.

20 मिनिट और गुज़रे और फिर मुझसे सूसू बिल्कुल होल्ड नई रा था. मैने चाची के कान के करीब चेहरा कर के कहा “चाची मुझसे अब सूसू बिल्कुल रोका नई जा रा”.

चाची ने पहले कंडक्टर को देखा और फिर मेरी तरफ देख कर कहा “ऐक तरीक़ा है जिसस से मे तुम्हारी सूसू रोकने मे मदद कर सकती हूँ.


Online porn video at mobile phone


hindi gay sex storybhabhi ganddesi sex in bushindi gay kahaniantarvasna gaysex in honeymoonsexkahanisex grilantarvasandidi ko chodamumbai aunty sexantarvasna 3gpantarvasna kahani hindi mesavita bhabhi sexindian sex stories in hindiantarvasna hhot sexy storiessexy kajalindian sex in parkantarvasna sexstorieshindi sex kathaantarvsanahot sexy bhabhisex storiedantarwasnabest sex storyenglish sex storyantarvasna bhabhi storyxossip storyantarvasna xantarvasna sexstory comhot sexy bhabhipyar bhara parivarsexy ladkiantarvasna jokesantarvasna . comsite:antarvasnasexstories.com antarvasnahindi sex stories antarvasnaantarvasna 2014antarvasna ki chudai hindi kahaniantarvasna salimuth marnasexy antiessex storiedcousin sex storiessex grilchudai storynew story antarvasnaantarvasna kahanikaamwaliantarvasna hindi kahani storiesantarvasna images of katrina kaiflatest antarvasnaantarvasna familymother sex storieshindi sex storechudai khaniyaantarvasna gand????? ??????antarvasna story new?????? ??????xxx stories in hindihindi sex storefree antarvasnadesi cudaihindi gay sex storykamukmom sex storiesnaukrani ki chudaisex story englishindian group sex stories