गाँव की भाभी और मैं


हेलो दोस्तो, मैं आपका दोस्त ऱिशभ आपके लिए एक कहानी ले कर आया हूँ. जो की मेरे साथ ही बीती हुई है. वैसे तो मैने बहोत सारी कहानिया पड़ी है जिसको पड़ कर मेरे अंदर कहानिया लिखने का भूत सवार हुआ है.

वैसे ये अच्छा ही है की मैं अपनी स्टोरी आपके आगे रख रहा हूँ. मैं ये नही जानता की मेरी ये स्टोरी आपको कैसी लगेगी पर जैसे भी लगेगी मुझे ज़रूर बताना.

अब मैं कहानी पर आपको ले चलता हूँ.

तो दोस्तो ये बात आज से एक साल पुरानी है. मेरा एक दोस्त है अभिशेक जिसकी फैमिली साथ मैं काफ़ी क्लोज़ हूँ. और हो भी क्यो ना आख़िरकार वो मेरे बचपन का दोस्त जो है.

हम दोनो काफ़ी खेलते है और काफ़ी मज़े भी करते है. हम एक दूसरे को बहोत प्यार भी करते है. और कही घूमने जाना होता है तो हम हमेशा एक साथ ही जाते है. हमारी दोनो की एक कॉमन बात है की हम बे वजा किसी से नाराज़ नही होते है.

तो दोस्तो ये तो मैने अपने दोस्त के बारे मे बता दिया. अब मैं आपको अपनी मेन कहानी पर ले चलता हूँ. दोस्तो, मेरे दोस्त की एक भाभी है जो की गाओं मे रहती है. मैं अभिशेक की फैमिली के साथ उनके गाओं के लिए निकल लिया.

उस टाइम अभिषेक हमारे साथ नही था क्योकि उसे एक्साम्स देने के लिए जाना पड़ता था क्योकि उसके एक्साम्स चल रहे थे. तब मैने भी उसे इतना फोर्स नही किया और चुप छाप अभिशेक के मम्मी दादी के साथ चल दिया.

मैं उनके साथ भी बाते मारता हुआ जा रहा था और हम .फिर सुबह सुबह उस छोटे से गाओं मे पहोच गये. वाहा जब घर पहोचे तो पता चला की वो अभिशेक के चाचा का लड़का है और उसकी बीवी ही है जो वाहा रहते है.

जब मैने भाभी को देखा तो मैं देखता ही रह गया. क्या मस्त पटाका लग रही थी. कहने को वो गाओं मे रहते थे पर थी पूरी आइटम पीस. मैं उन्हे देखता ही रह गया क्या मस्त माल थी.

काम करते वक़्त भाभी की साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया जिसका भाभी को ध्यान नही था और ये सब देख कर मेरा मूड कराब हो रहा था. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

फिर भी मैने खुद को कंट्रोल किया पर जब भाभी खाना खाने बैठी तो भाभी ने जान बूज कर पल्लू नीचे गिरा दिया. तब मैं समझ गया की भाभी भी यही चाहती है. फिर भाभी ने मुझे कमर दबाने को कहा तब मैं उनके पीछे बैठ कर उनकी पतली कमर दबाने लग गया.

क्या मस्त कमर थी और मेरा लंड उनकी गांद मे लग रहा था जिससे लंड पूरा खड़ा हो गया था. फिर मैने ऐसे ही लंड को उप्पर नीचे किया और तब मैने देखा की भाभी भी इसके मज़े ले रही है.

कुछ ही देर मे मैने ब्लाउस निकाल दिया. और मैने भाभी की ब्रा भी फाड़ दी. और फिर मेरे सामने मोटे मोटे बूब्स आ गये. जिसे देख कर मैं पागल हो गया. मैने बिना देर किए भाभी के बूब्स को मसलना शुरू कर दिया. मैं करीब 5 मिनिट्स तक भाभी के बूब्स को अपने दोनो हाथो से मसलता रहा.

फिर भाभी बोली तुम इसे मसालते रहोगे या चूसो गे भी. भाभी के कहते ही मैने भाभी का राइट वाला बूब्स अपने मूह मे डाल दिया. और ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गया. एक हाथ मे भाभी का लेफ्ट वाला बूब्स था जिसे मैं चूस रहा था. मैने भाभी के निप्पल्स को अपने दातो से काटना शुरू कर दिया. भाभी के मूह से मस्ती से भारी आहह उई मा धीरे से करो ऐसी मस्त आवाज़ें आने लग गई.


Online porn video at mobile phone


antarvasna antarvasna antarvasnasexkahanididi ko chodaantervashnanonveg storiesantarvasna com hindi mefree sex stories in hindi????????hindi sex storesgay antarvasnaantarvasna hindimaa ko choda antarvasnaantarvasna marathi comsex in delhididi ko chodasexy story????? ?? ?????aunty sex pickamukta.antarvasna marathi storyantarvasna hd videoantarvasna ki kahani hindi mehindisex storychoot chudaim antarvasna hindiantarvasna saxantarvasna newantervashna.combiwi ki chudaifree antarvasna storymastram.netantarvasna gujaratiantarvasna jokesindiansex storyantarvasna bhabhiindian sex.storiesantarvasna sasurchut antarvasnamy hindi sex storyhindisex storysexkahaniantarvasna com imagesantarvasna antarvasnasasur se chudaisex storieaantarvasna schoolantarvasna photoactress sex storiesbhabi ki chudaiantarvasna photos hotsali ki chudaisexi khanimarathi antarvasna kathaantarvasna chudai photosexy storiessex kahaniyanww antarvasnasex story in bengaliantarvasna storeindain sex storiesantavasanaantarvasna gaychudai ki kahani hindi meantarvasna .comantarvasna gay videoantarvasna chutsex with uncleindian desi chudaiwww antarvasna com hindi sex storykaamuktaantarvasna bahuchut antarvasnasex khaniyabrother sister sex story